Saturday, June 14, 2008

पेश है लाइव मुशायरे.

एक तो बालकिशन ने सबको शायर बना दिया और सब है की उसी के पीछे पड़े है.
बहुत नाइंसाफी हो रही है ये. बालकिशन ने क्या कहा और क्या नही कहा वो बाद की बात है पर मुशायरों की बाढ़ आ गई है ब्लाग जगत मे.
खैर आप सब को क्या आप तो इन मुशायरे का आनंद उठाइए.
ये मुशायरा चल रहा है मिश्रा जी की और रोशन जी की कल की पोस्ट पर.
दृश्य एक :- .मिश्रा जी की पोस्ट से.
काकेश said...
देखिये जी आप ये मीर ग़ालिब करते करते हमारे केडीक़े साहब को क्यों भूल गये.चंद शेर मार कर भेजे हैं.

ये शेर चचा ग़ालिब ने भी मार लिये थे ओरिजनली केडीक़े साहब के हैं.

ये ना थी हमारी किस्मत,जरा ऐतबार होता
हम पोस्ट लिखते रहते, उन्हे इंतजार होता

कहते ना खुद को ग़ालिब ना मीर ही बुलाते
ज़ो तीर ही चलाते तो जिगर के पार होता

जो डायरी थी वो भी, अब मिल गयी है उनको
हम को मिल जो जाती तो बेड़ा-पार होता

अब मीर साहब वाले शेर देखें.

जो तू ही पोस्ट लिख कर बेज़ार होगा
तो हमको कुछ भी कहना दुश्वार होगा

कैसे लिखते है डेली डेली, सुबह वह पोस्ट
कहते हैं लोग हमसे, कोई व्यौपार होगा

दिन में भी जो ठेलते हैं कई कई पोस्ट
समझो कि वो तो कोई बीमार होगा.

June 13, 2008 9:32 PM
Ghost Buster said...
कुछ लोग कलम से शेर लिखते हैं तो कुछ गोली से शेर मारते हैं. आपने कलम से शेर को ढेर किया.

June 13, 2008 10:46 PM
anitakumar said...
हा हा शिव भाई मजा आ गया आप की पोस्ट का भी और काकेश जी की टिप्पणी का भी, इसे पढ़ मै तो असली शेर भी भूल रही हूँ अब तो ये काकेश जी के शेर घूमेगें दिमाग में।

June 14, 2008 12:12 AM
Lavanyam - Antarman said...
मीर ना हुए अमीर,
चचा गालिब की रुह
हुई पशेमाँ ..
क्या कलजुग आयो है!!
- लावण्या

June 14, 2008 12:52 AM
कमलेश 'बैरागी' said...
मीर के थे तीर और गालिब का भी था इक कमान
नाम लेकर इन्ही का चलती है कितनी ही दुकान

क्यों नहीं ये सोचते जो मीर-गालिब थे तो क्या
लिख दिया 'कमलेश' ने भी एक मोटा सा दीवान

मीर-गालिब ब्लॉग पर लिखते गजल की पोस्ट जो
गर न मिलती टिपण्णी तो लुट गया होता जहान

ये समझ लो ब्लागिंग में भी कितने गालिब-मीर हैं
सब मिले तो उठ गया है, ब्लॉग का ऊंचा मचान

है सदा 'रोशन' तुम्हीं से बुद्धि का दीपक यहाँ
और ऐसे दीपकों से जगमगाता है मकान

कह दिया 'कमलेश' ने भी बात जो मन में रही
और कहकर दे गया अपना भी छोटा सा निशान

---कमलेश 'बैरागी'

June 14, 2008 10:44 AM
काकेश said...
कमलेश जी को केडीके का सलाम

आपकी दोस्ती की खातिर कुछ फ़रमा रहा हूँ.

जिन्दगी से दो चार होइये साहब
मुई ब्लॉगिग में टैम ना खोइये साहब

टिप्पणी मिलती हैं उनको,तो ख़फा क्यों हैं
अपनी ग़जलों में यूं ना रोइये साहब

क्यूँ सुबौ सुबौ उठके पोस्ट करते हैं ज़नाब
चादर में मँह घुसाकर खूब सोइये साहब

पुरानी दोस्ती ऐसे न खोइए साहब
इज़ारबंद से बाहर न होइए साहब

June 14, 2008 11:41 AM
काकेश said...
शेर मुंआ मुँह से फिसल गया.ऐसे पढ़ें

क्यूँ सुबौ सुबौ उठके पोस्ट करते हैं ज़नाब
चादर में मुँह घुसाकर खूब सोइये साहब

एक और बोनस

क्या बदल लेंगे दुनिया लिख के ब्लॉग-पोस्ट
यह सोच के अपने होश ना खोइये साहब

June 14, 2008 11:47 AM
कमलेश 'बैरागी' said...
जनाब केडीके साहब को इस नाचीज का आदाब. चाँद अश-आर हैं. आपकी खिदमत में पेश कर रहा हूँ..

अब गजल की वाट लगने दीजिये
कुछ जरा मुझको भी कहने दीजिये

जो भी था सो कह दिया है आपने
जो बचा है उसको रहने दीजिये

क्यों भला रोकें जो गिरता है यहाँ
गजल के 'अस्तर' को ढहने दीजिये

मुंह ढके चादर में तो ही ठीक है
औ हवा ऊपर से बहने दीजिये

कह दिया 'कमलेश' ने भी दिल की बात
और गहे फिर से तो गहने दीजिये

June 14, 2008 12:05 PM
बाल किशन said...
बहुत जबरदस्त मुशायरा जम रहा है.
जमाये रहिये जी.
हम भी एक आध शेर लेकर थोडी देर में हाजिर होते हैं.

June 14, 2008 12:30 PM
नीरज गोस्वामी said...
मुशायरे में मेरा नंबर कब आएगा...ये लोग थमे तो कुछ हम भी कहें...अर्ज़ किया है...भाई बाल किशन हमें यूँ पीछे मत घसीटो यार....अमां एक आध तो शेर तो कहने दो...बड़ी दूर से आए हैं मियां...ये क्या माईक ही उठा के ले गए जनाब...अब शेर पढ़ें या चिल्लाएं? इन बाल किशन जी को समझाओ यार...कमलेश और काकेश भाई को कुछ नहीं कहते हमारे पीछे पड़े हैं..
नीरज

June 14, 2008 1:07 PM
कमलेश 'बैरागी' said...
अमां बाल किशन..मियां ये क्या कर रिये हो?..जनाब नीरज साहब को मुशायरे में कुछ पेश करने का मौका दो...म्येने सुना था एक ज़माना था जब दाग़ साहब से शाइर लोग जलते थे...म्येने तो सुना है कि जनाब असद साहब से भी शाइर लोग जलते थे...क्या कहा? असद कौन? लाहौलबिलाकुव्वत...चचा असद का नाम नहीं मालूम? कैसे नामाकूल इंसान हो तुम?...हाँ तो मैं कह रिया था कि असद उर्फ़ गालिब से भी लोग जलते थे...एक बार एक शाइर ने उनके शेर सुनकर कह दिया;

कलाम-ए-मीर समझे औ जुबान-ए-मीरजा समझे
मगर इनका कहा ये आप समझें, या ख़ुदा समझे

और आप तो ऐसे नामाकूल शाइर से भी आगे निकल गए...माईक लेकर ही भाग लिए..उर्दू शायरी में कला दिना कहेंगे हम इसे..जनाब नीरज साहब, हम आपके लिए नया माईक लेकर आते हैं.

June 14, 2008 1:18 PM
काकेश said...
ज़नाब आप ने कहा तो हम ग़ौर फ़रमा रहे हैं.आप भे फ़रमायें.

जो बचा है उस्को रहने दे रहे हैं
अंडे हुए थे 'रोशन',अपन से रहे हैं

कश्ती कहां से निकली,कहां पहुंच रही है
ये सोचते नहीं अपन तो बस खे रहे हैं

चांद निकलता था तब,अब चांद निकल गयी है
सर के बाल रो रोकर, दुआ दे रहे हैं

जो लिखते थे व्यंग्य,अब ग़जल लिख रहे हैं
वो जल रहे हैं फिर भी, मजे ले रहे हैं.

June 14, 2008 1:34 PM
रंजना said...
वाह वाह वाह,क्या बात है.जबरदस्त मुशायरा है.
कृपया चलने दीजिये,
हम दर्शक दीर्घा मे कृतार्थ हो रहे हैं
कहीं से तीर कहीं से गोले आ रहे हैं..

June 14, 2008 1:50 PM
कमलेश 'बैरागी' said...
जनाब नीरज साहब और जनाब केडीके साहब...गौर फरमाईये...जनाब बाल किशन...कान इधर दीजिये... अरे क्या करते हैं...कान उखाड़ कर नहीं देना है..मेरा मतलब सुनिए..

बड़ी कोशिश की गजल में व्यंग कर दूँ
लिख के कुछ व्यंग उनको दंग कर दूँ

जो लिखी ऐसी गजल भौचक्के हैं वो
मैंने ये सोचा उन्हें भी तंग कर दूँ

दिख रही हैं सडियल सी घर की दीवारें
आज सोचा उनको मैं ही रंग कर दूँ

और ख़ास तौर पर ये शेर सुनिए...अर्ज किया है..

वो थे, मैं था, और था 'रोशन' समा ये
दिल में आया आज ही मैं जंग कर दूँ.


दृश्य दो :- रोशन जी की पोस्ट से

कहां से आ गई दुनिया कहां, मगर देखो
कहां-कहां से अभी भी कारवां गुजरता है।
—————-
बहुत पहले से उन कदमों की आहट जान लेते हैं
तुझे ऐ जिंदगी, हम दूर से भान लेते हैं।

Shiv Kumar Mishra on June 13th, 2008 at 5:36 am

राजेश जी,
ये शेर लिखने से अच्छा होता कि आप पोस्ट ही लिख देते. पोस्ट पढ़कर शायद आपकी बात समझ में आ जाती. शेर पढ़कर तो नहीं आई.

आपका फैन on June 13th, 2008 at 5:44 am

शेर तो सही लिखो यार।

आपके लिये दो लाइना

शेरो का अब बन्द करो लूज मोशन
कुछ तो ढंग का लिखो राजेश रोशन

Rajesh Roshan on June 13th, 2008 at 5:52 am

@आपका फैन

क्या मैंने जो शेर लिखा है, वो ग़लत है. जवाब मैं दे देता ह. नही है लेकिन फ़िर भी गलती बताने वाले को मेरे तरफ़ से पार्टी.

एक बात और बड़ा अच्छा शेर लिखा है, क्या तुक बंदी है. मोशन और रोशन. बेहतरीन. लेकिन अपनी इस उर्जा को आप किसी अच्छे जगह लगाते तो दाद देने वाले कई लोग होते. इन छोटी छोटी बातो से मैं नाहक परेशां नही होता आपका फैन जी

Dr.Anurag Arya on June 13th, 2008 at 9:01 am

सुबह से तीसरी पोस्ट है आज ….मीर ओर ग़ालिब पर …..उम्मीद है रात तक चौथी ना हो जाये..

समीर लाल on June 13th, 2008 at 9:43 am

सब मीर मीर कह रहे हैं तो वही देखने आया था. यहाँ तो मेरे लिखा है, मीर कहाँ.

Ghost Buster on June 13th, 2008 at 11:53 am

बधाई हो राजेश जी, हर तरफ़ आप का चर्चा है जहाँ से सुनिए.

Gyan Dutt Pandey on June 13th, 2008 at 12:02 pm

वाह! मीर भी “मेरे” हैं। और हम तो मीर तो हो न सके, हो गये - अनुभवी!
शिव कहते हैं, पोस्ट लिख देते। मेरा विचार है - कमेण्ट लिख देते!

neeraj on June 14th, 2008 at 2:01 am

समीर जी
मीर खोपोली में है…आप को तो मालूम ही है और फ़िर भी पूछ रहे हैं… देखिये न ये सब लोग हमें कहाँ कहाँ ढूंढ रहे हैं….राजेश जी और शिव जी ने हमें कितना मशहूर कर दिया है…धन्यवाद बंधुओ हमें गुमनामी के अंधेरे से बाहर निकलने के लिए.
नीरज

balkishan on June 14th, 2008 at 2:43 am

गालिब said.
मैं एक दिन क्या अनुपस्थित हुआ सब ने मेरा और मरी शायरी का मजाक उड़ना शुरू कर दिया.
अब नहीं करूँगा कभी ब्लाग्बजी.
आप सब से नाराज हो गया हूँ.

13 comments:

DR.ANURAG said...

sau bato ki ek baat hame galib ki baat jam gayi...

neelima sukhija arora said...

क्या बात है आप तो अपने साथ-साथ दूसरों से भी शायरी करवाने लगे।

कुश एक खूबसूरत ख्याल said...

अभी अनाम बंधु आते होंगे और कहेंगे.. "और क्या क्या हो रहा है ये भी लिख दीजिए ब्लॉग जगत में.. आपके पास कुछ और नही है क्या लिखने को.." तो इसलिए जल्दी से दूसरी पोस्ट भी पेल दीजिए कोई बढ़िया सा शेर.. पर हम आपको क्या कहेंगे???

Gyandutt Pandey said...

क्या बालकिशन; हमें तो बड़ी जलन हो रही है यह उच्च कोटि के बाघ/सॉरी शेर देख कर।
बर्नाल का इन्तजाम करो हमारी ईर्ष्या के लिये। :D

राजीव रंजन प्रसाद said...

हम तो चूक गये :(

***राजीव रंजन प्रसाद

Rajesh Roshan said...

सब कुछ पढ़ा हुआ था लेकिन फ़िर भी पढ़ कर मजा आया और साथ ही एक अफ़सोस भी... इस लिजलिजे भाव से आगे निकल कर आगे की बात की जानी चाहिए....

mahendra mishra said...

क्या बात है क्यो न ब्लॉगर शेरे ऐ जगत ब्लॉग बना लिया जाए . जितनो ब्लागरो के शेर टिपण्णी मी आये उन्हें समेट कर ब्लॉगर शेरे ऐ ब्लॉग मे पोस्ट कर दिया जाए .तरीका काफी पसंद आया है . धन्यवाद

बाल किशन said...

आप सबको न्यौता मेरा खुला दरबार है
शेर लेकर आयें आप हाजिर सवार है.

शेर मे ही बात कीजिये शेर मे ही टिपण्णी
जो ना ये कर सके उसके लिए सोंटा तैयार है.

दिनेशराय द्विवेदी said...

बाल किशन जी गजब मत कीजिए। जंगल में शेर अधिक हो गए तो कुछ दिन बाद खाने को कुछ न बचेगा। बेचारे शेर भूख से मरेंगे।
जरा इकोलॉजी का तो ख्याल करो।

डा० अमर कुमार said...

ग़ालिब और मीर के वक़्त क्रियेटिव कामन्स
वाले शायद पैदा हुये थे या नहीं, कोई बतायेगा ?

मेरे को तो बरनाल ढूँढ़ने भेज दिया गया था,
इसलिये...नो कमेंन्ट्स !

arvind mishra said...

वाह कैसी सुंदर सर्जनात्मकता बिखरी हुयी है यहाँ !

mamta said...

यहां तो बाकायदा मुशायरा ही चल पड़ा है।

Udan Tashtari said...

ये सही है कि हम गायब रहे और आप लोगों ने पूरा मुशायरा ही कर लिया. अब मैं एकल काव्य पाठ झिलवाऊँगा आप सबको. :)